इंसान का भविष्य ग्रहों की चाल पर निर्भर: ज्योतिषाचार्य हंसराज शास्त्री

इंसान का भविष्य ग्रहों की चाल पर निर्भर  करता है । देश विदेश की जानी मानी  हस्यों के बारे में भविष्यवाणी करने वाले ज्योतिषाचार्य पंडित हंसराज शास्त्री का मानना है कि इंसान के जनम से लेकर मरण तक का भविष्य ग्रह  चाल पर आधारित होता है । जीवन में घटित हो रही अच्छी बुरी घटनाएं सभी ग्रहों के वशीभूत होती हैं ।

चाहे डोनाल्ड ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने की भविष्यवाणी हो या फिर नरेंद्र मोदी की प्रधानमंत्री शपथ लेने की, ३२ सालों से ज्योतिष कार्य कर रहे श्री शास्त्री की सभी भविष्यवाणियां सही साबित  हुई हैं।  बराक ओबामा और प्रणव मुखर्जी के बारे में सही  भविष्यवाणी करने  वाले पंडित हंसराज शास्त्री  मूल रूप से राजस्थान सीकर से सम्बद्ध हैं।

सीताराम मोतिराज महाविद्यालय से संस्कृत में शास्त्रीय करने के बाद अपने गुरु श्री धर्मराज पंडित जी फिरोजपुर पंजाब से ज्योतिष का अध्यययन किया। पिताजी के आकस्मिक निधन के चलते पड़े बीच में छोड़नी पड़ी और फिर श्री शास्त्री ज्योतिष  पर अनुसन्धान में लग गए । हाल ही में पांच राज्यों के चुनाव में बीजेपी के लिए भविष्यवाणी  करने वाले शास्त्री ने १० फ़रवरी २०१३ में प्रगति मैदान में हो रहे सेमिनार में ही भविष्यवाणी कर दी थी कि आने वाली  २६ मई २०१४ को नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री पद कि शपथ लेंगे जो कि सही साबित हुई । श्री शास्त्री मानते हैं कि ग्रहों कि चाल बचपन से ही चलती है लेकिन ग्रह बदलते रहते हैं ।

ज्योतिष में हर समस्या का समाधान:

भार्गव ब्राह्मण महासभा के उपाध्यक्ष श्री शास्त्री कहते हैं कि ज्योतिष में हर समस्या का समाधान है । ज्योतिष कि सही जानकारी को सही समय पर इस्तेमाल करके हम हर समस्या का निदान कर सकते हैं ।उनका कहना है कि आजकल कुछ लोगों ने ज्योतिष को पैसा कमाने का जरिया बना लिया है । कालसर्प दोष बताकर लोगो को डराने वालों को वे सही नहीं मानते. उनका कहना है कि कालसर्प नाम का जो दोष बताया जाता है उससे कोई हानि नहीं होती । कालसर्प योग होने पर उस इंसान को केवल संघर्ष ज्यादा करना पड़ता है लेकिन उसका कुछ भी बुरा नहीं होता ।यह सारा भ्रम पंडितों का फैलाया हुआ है लोगों कि जेब से पैसा निकलने के लिए । इससे इंसान के पतन का कोई सम्बन्ध नहीं है। श्री शास्त्री सभी से कहना चाहते हैं कि ज्योतिष एक विज्ञानं है और इससे अंधविश्वास से दूर रखना चाहिए ।download (1)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>